आज दिनाँक 06.11.2019 को एमिटी विश्वविद्यालय सभागार में माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा अयोध्या प्रकरण को लेकर आने वाले निर्णय के संबंध में जिलाधिकारी गौतम बुद्ध नगर व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक गौतम बुद्ध नगर द्वारा एक शान्ति समिति की बैठक आयोजित


की गई जिसमें जनपद के समस्त थाना क्षेत्रों के हिन्दू पक्ष के सम्मानित व्यक्तियों एवं प्रभावशाली नागरिको से वार्ता आयोजित की गई। इसमे जनपद के प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारी तथा थाना प्रभारी भी सम्मिलित थे। इसमे जनता के व्यक्तियों से सीधा संवाद स्थापित करते हुए सामाजिक समरसता बनाये रखने हेतु पुलिस को सहयोग करते रहने का आग्रह किया गया।  यह सुझाव दिया गया कि विभिन्न सोशल मीडिया के माध्यमो ,फेसबुक,ट्वीटर,व्हाट्सएप आदि पर सतर्कतापूर्वक दृष्टि रखे और किसी भी अफवाह या फेक न्यूज़ से प्रभावित होकर उतावलेपन में कोई गलत कारवाही न कर बैठे। किसी भी प्रकार की संवेदनशीलता को देखते हुए किसी स्थान पर यदि भीड़ एकत्र होती है तो उनको समझाबुझा कर  शांत कराये एवं प्रशासन तंत्र को सूचित कर तनाव की स्थिति को सामान्य करने की कार्यवाही करें क्योंकि ऐसा प्रायः देखने मे आया है कि किसी भ्रांति के कारण अनावश्यक रूप से विभिन्न वर्गों में तनाव की स्थिति उत्पन्न हो जाती है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा यह भी अनुरोध किया गया कि संवेदनशील बिन्दुओ पर अनावश्यक विचार विमर्श एवं वार्तालाप सार्वजनिक स्थान पर न करें। पुलिस की तरफ से सतर्कता बरतने हेतु विभिन्न एडवाइजरी समय-समय पर जनता को जागरूक बनाने एवं शांति व्यवस्था सामान्य बनाये रखने हेतु जारी की जा रही है जिनका पालन सर्वहित में उपयोगी है। यदि कोई संदिग्ध अथवा संवेदनशील मैसेज आपको प्राप्त होता है तो उसको आगे फारवर्ड न करे बल्कि उसकी सत्यता जांचने के लिए अपने क्षेत्र के पुलिस अधिकरियो को सूचित करें। यदि दुष्प्रचार के उद्देश्य से जारी किए गए किसी मैसेज को किसी के द्वारा आगे फारवर्ड किया जाएगा तो वह भी उसी अपराध का दोषी माना जायेगा और इस प्रकार के मैसेज को फॉरवर्ड करके उसे वृहद रूप दिए जाने पर जारी करने वाले दोषी के साथ साथ फॉरवर्ड करने वाले को उसी गिरोह का सदस्य मानते हुए गैंगस्टर एक्ट की कार्यवाही की जायेगी। विशेष परिस्थितियों में उस व्यक्ति को रासुका में निरुद्ध भी किया जा सकता है। जिन लोगो के विरूद्ध इस प्रकार अभियोग पंजीकृत हो गया उनको कभी भी पुलिस वेरिफिकेशन में क्लीयरेंस नही मिल सकेगा और विभिन्न प्रकार की सरकारी सुविधाओं जैसे कि नौकरी, पासपोर्ट, शस्त्र लाइसेन्स आदि से वंचित हो जाएगा। किसी भी हालत में 100 नंबर/पुलिस कंट्रोल रूम पर फ़ोन करके असत्य अथवा अपुष्ट सूचना न दे एवं अभद्र व्यवहार ना करे क्योकि ऐसी परिस्थितियों में  इसको गम्भीरता से लेते हुए कार्यवाही की जायेगी। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा जनता से यह भी अपील की गई कि माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा किसी भी पक्ष में निर्णय दिया जाए दूसरा पक्ष उसका सम्मान करे। अपने अपने मोहल्लों, सेक्टरों और गाँव में अपने लोगों की मीटिंग कर उन्हें समरसता बनाये रखने हेतु अनुरोध करे। पुलिस द्वारा ऐसे व्यक्तियों को चिन्हित किया जाएगा जो सद्भाव बिगाड़ सकते हैं। उनके खिलाफ निरोधात्मक कार्यवाही की जाएगी। जनपद में बृहद स्तर पर फ्लैग मार्च किया जा रहा है जिससे जनता में सुरक्षा की भावना बनी रहे। सभी थानों के प्रमुख कस्बो व गाँवो में शान्ति समिति की बैठके पुलिस द्वारा की जा रही है जिसमे आमजन तक शान्ति बनाये रखने एवं सामान्य जन जीवन कुप्रभावित न होने देने में सभी के सहयोग की अपेक्षा की जा रही है। जनपद गौतम बुद्ध नगर की शांति व्यवस्था बनाये रखने में पुलिस का सहयोग करें।


Share To:

Post A Comment: