रविवार देर रात ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे पर सड़क हादसे में गुलावठी के गांव मिट्ठेपुर निवासी एक ही परिवार के छह सदस्यों सहित सात की मौत हो गई। हादसे की सूचना मिलते ही पूरा गांव मातम में डूब गया। मृतकों के घर में मचे कोहराम का मंजर देखकर लोगों की आंखे नम हो गई।
गांव मिट्ठेपुर निवासी पूर्व जिला पंचायत सदस्य फहीमुद्दीन मेवाती ने बताया कि हरियाणा के बल्लभगढ़ में भांजी की शादी रविवार को थी। इसमें भात देने के लिए उनकी चाची शमशीरा पत्नी इकरामुद्दीन, ताऊ के लड़के आसिम मेवाती और यासीन के साथ घर परिवार के बच्चे ईको वैन से गए थे। रविवार देर रात लौटते समय ग्रेटर नोएडा के साइट-5 थाना क्षेत्र में वैन हादसे का शिकार हो गई। हादसे में शिक्षा मित्र आसिम (40), भाई यासीन मेवाती की पुत्री सुमायला (13), रिहाना (18), रीफा मेवाती (11) और चाची शमशीरा (55) के साथ मेरठ के लिसाड़ी गेट से आई आसिम की साली फरजाना उर्फ भूरी के अलावा अक्सा की मौत हो गई। उधर, जैसे ही हादसे की सूचना गांव पहुंची तो परिवार के सदस्य बेहाल हो गए। रात में परिजनों के चीत्कार को सुनकर ग्रामीणों की नींद टूटी और दौड़कर पीड़ित परिवार के पास पहुंचे। जहां हादसे की सूचना ने पूरे गांव को गम में डुबो दिया।
----------------

एक साथ 7 शव देखकर बेहाल हुए लोग

हादसा में परिवार के छह सदस्यों की मौत की सूचना पर रिश्तेदार मिट्ठेपुर पहुंचना शुरू हो गए। शाम चार बजे सभी मृतकों के शव गांव पहुंचे, सफेद चादर में लिपटे अपनों के शरीर देखकर परिजन बेसुध हो गए। मौके पर विलाप करती हुई कई महिलाएं बेहोश हो गई। जबकि गांव की गलियों में सन्नाटा पसर गया। गमगीन माहौल में शाम छह बजे सभी शवों को दफनाया गया।

दो बहनों का अकेला भाई था चालक शानू

कस्बे के मोहल्ला अजीमुद्दीन निवासी शाकिर उर्फ शानू (23) पुत्र जाकिर भी हादसे में जान गवां बैठा। मृतक अपनी दोनों बहनों में सबसे बड़ा था और परिवार में वह इकलौता था। पिता व पुत्र कार चलाकर परिवार का पालन-पोषण करते हैं। परिजनों ने बताया कि शानू जिस कार को ले गया था उसे हाल ही में फाइनेंस कराई थी। शानू की शादी की बात भी चल रही थी, रिश्ता तय नहीं हुआ था।


Share To:

Post A Comment: