अयोध्या केस को लेकर दनकौर में एसडीएम-कोतवाल ने की बैठक,
दनकौर|(शफ़ी मोहम्मद सैफ़ी)एसडीएम सदर प्रसून द्विवेदी  एवं दनकौर कोतवाल  अखिलेश प्रधान  द्वारा दनकौर कोतवाली परिसर में क्षेत्र के सभी संगठनों के पदाधिकारियों तथा संभ्रान्त नागरिकों के साथ बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में निकट भविष्य में अयोध्या प्रकरण पर सर्वोच्च न्यायालय द्वारा निर्णय दिये जाने के फलस्वरूप कानून एवं शान्ति व्यवस्था बनाये रखने के दृष्टिगत क्षेत्र में अमन चैन और सौहार्दपूर्ण वातावरण बनाये रखने की अपील
की गई है।इस मौके पर एसडीएम ने कहा कि भाईचारा सौहार्दपूर्ण वातावरण बनाये रखना हम सबकी नैतिक जिम्मेदारी है। जनपद में अमन चैन, शान्ति व्यवस्था बनाये रखना ही जिला प्रशासन का उद्देश्य है इसके लिए जिला प्रशासन बिल्कुल निष्पक्ष भाव से कार्य करेगा। उन्होने उपस्थित लोगों से कहा कि वह समाज के स्तम्भ हैं, राष्ट्रहित समाजहित में पूर्ण सद्भावना बनाये रखने में अपनी अहम भूमिका निभाये। उन्होंने बताया कि यदि कोई छोटी सी घटना घटित होती है तो उसका बड़ा रूप होने से स्थानीय लोगों को ही घाटा होता है, इसलिए क्षेत्र में सर्व समाज के संभ्रान्त लोगों की जिम्मेदारी है कि वह अपने स्तर से आस-पास के लोगों को सर्वोच्च न्यायालय द्वारा अयोध्या मामले में निकट भविष्य में दिये गये निर्णयों को मानने हेतु उन्होने कहा कि समाज में अमन चैन कायम रखना हम सभी का नैतिक दायित्व है यदि हमारे समाज में ही कोई सम्भावित ऐसा असामाजिक तत्व है जिनसे अमन चैन में बाधा होने की आशंका है, तो उसकी सूचना अपने निकट के थानाध्यक्ष, पुलिस क्षेत्राधिकारी, उपजिलाधिकारी को स्वयं तत्काल अवगत करायें, ताकि समय रहते उनके विरूद्ध विधिक कार्यवाही सुनिश्चित की जा सके । ऐसे असामाजिक तत्त्वों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही सुनिश्चित की जायेगी। जिला प्रशासन आप सभी के साथ निष्पक्ष रूप से खड़ा है।बैठक में दोनों धर्मो के पदाधिकारियों एवं सम्मानित प्रबु़द्धजनों ने एक संकल्प लिया है कि सर्वोच्च न्यायालय का निर्णय किसी भी पक्ष में आये हम उसका सम्मान करेंगे और अपने मोहल्ले/ गाॅव के आस-पास के क्षेत्रों में भाई चारा व सौहार्द का माहौल बनाये रखेगें। दनकौर कोतवाल अखिलेश प्रधान ने  कहा कि किसी भी ऐसे संदेश को जिससे आपसी सौहार्द प्रभावित होने की संभावना हो कदापि शोसल मीडिया पर शेयर न करें। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट करने वालों के विरूद्ध आईटी एक्ट के तहत दण्डात्मक कार्यवाही सुनिश्चित की जायेगी। उन्हांेने कहा कि निर्णय आने पर ज्यादा खुशी तथा विरोध में नारेबाजी, धरना प्रदर्शन स्वीकार नहीं होगा। जनपद में पहले से ही धारा-144 लागू कर दी गयी है।उन्होंने  कहा कि धर्मगुरू और संभ्रान्त लोग समाज के बहुत सम्मानित लोग होते है जो कि विषम परिस्थितियों को नियंत्रित करने और सही दिशा देने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाते है। उन्होंने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय द्वारा अयोध्या पर जो फैसला आने पर संयम बरतने की आवश्यकता होगी। जिससे जनपद में सौहार्दपूर्ण वातावरण बना रहे। समस्या आने पर 112 नम्बर पर तत्काल सूचित कर सकते हैं। किसी प्रकार का जाम, प्रदर्शन, जुलूस निकालने की कोशिश न करें जिससे कोई अव्यवस्था हो। उन्होंने कहा कि धैर्य और संयम बनाये रखने के लिए आपके कन्धों पर दायित्व हैं। समाज के कुछ ही लोग अराजक तत्त्व होते हैं जो बड़ो की बात नहीं मानते है। ऐसे लोगों को कुछ भी आपत्तिजनक कार्य करने की अनुमति नहीं होगी और ऐसे अराजक तत्त्वांे के साथ सख्ती से निपटा जायेगा।
उन्होंने कहा कि यदि कोई भी आपत्तिजनक सामग्री सोशल मीडिया वाट्सअप, फेसबुक पर डालेगा या आगे फारवर्ड करेगा तो उसके विरूद्ध आईपीसी की धारा के अन्तर्गत अभियोग पंजीकृत किया जायेगा। उसके विरूद्ध एनएसए तक की कार्रवाई भी की जा सकती है। उन्होंने कहा कि पोस्ट डालने से यह भी देख लें कि उसमें कोई ऐसी आपत्तिजनक सामग्री तो नहीं है। ग्रुप एडमिन का कर्तव्य होगा कि ऐसी सामग्री डालने वाले को तुरन्त ग्रुप से बाहर करें और इसकी सूचना पुलिस को दें। उन्होंने सभी से अनुरोध किया कि उत्सुकतापूर्वक या किसी अन्य को जानकारी देने के लिए कुछ आपत्तिजनक फारवर्ड न करें इस मौके पर दनकौर चेयरमैन अजय कुमार भाटी दनकौर व्यापार मंडल के अध्यक्ष रजनीकांत अग्रवाल पवन खटाना सन्दीप जैन महिपाल गर्ग राजकुमार कनारसी महकार नागर शफीक कुरैशी  कुशाग्र गोयल रहमत अली कृष्ण भाटी मौलाना मोइनुद्दीन अशर्फी सुशील कुमार अग्रवाल रिजवान पठान ओमकार भाटी रसूला अजब सिंह कसाना राजे कसाना सहित सैकड़ों लोग मौजूद रहे




Share To:

Post A Comment: