ग्रेटर









नोएडा।   (शफ़ी मोहम्मद सैफी)  आईएचजीएफ दिल्ली मेला स्प्रिंग 2019 के दूसरे दिन, मंगलवार को हस्तशिल्प विकास आयुक्त शांतमनुमेले का विजिट करने पहुंचे। वहां उन्होंने प्रतिभागियों से बातें की और जम्मू कश्मीर के थीम पवेलियन का उद्घाटन किया। जम्मू-कश्मीर अपने प्राकृतिक सौंदर्य और विशेष कच्चे माल के लिए प्रसिद्ध है। इस राज्य का उद्यमी और कारीगर मेले में रग्स, कालीन, शॉल, स्टोल, होमफर्निशिंग, काष्ठशिल्प और पेपर मैशे शिल्पों का प्रदर्शन कर रहे हैं. विभिन्न प्रकारों के होम, लाइफस्टाइल, फैशन, टेक्सटाइल और फर्नीचर उत्पादों की व्यापक किस्मों को देखकर हस्तशिल्प विकास आयुक्त सम्मोहित हुए और उन्होंने कहा कि भारतीय हस्तशिल्प उत्पादों की क्वालिटी दूसरे अन्य प्रतिस्पर्धी देशों के मुकाबले में बहुत बेहतर है क्योंकि भारतीय उत्पाद हस्तनिर्मित हैं और इनमें मशीनों का बहुत कम इस्तेमाल किया जाता है
ईपीसीएचकेमहानिदेशकश्रीराकेशकुमारनेकहा, "ईपीसीएच ने योजनाबद्ध तरीके से अपने होम, लाइफस्टाइल,फैशन और टेक्सटाइल क्षेत्र के कुशल डिजाइन पेशेवरों से सुसज्जित एक डिजाइन फोरम की स्थापना की है ये डिजाइनर कम्पनियाँ हैं- क्यूरो कार्टेसोर्सेज से जो विविध आर्ट शैलियों पर काम करतीहै,कोयाकलजो'लिवविथआर्टऐंडलिवविथनेचर' के आदर्श सिद्धांत के साथ समृद्ध आदिवासी कला की प्रतिनिधित्व करती है,हाथ की कताई और बुनाई वाले खादी के उत्पाद, आयोम जिसे ग्रामीण महिलाओं, जेल के कैदियों और स्थानीय कारीगरों के बनाए केले के फाइबर से बने उत्पादों को प्रदर्शित करने के लिए मेले में बुलाया गया है इनमें से अधिकतर पहली बार इस मेले में शिरकत कर रहे हैंऔर उन्हें उम्मीद है कि इस मंच के माध्यम से उन्हें सीखने को मिलेगा,उनकी नेटवर्किंग बढ़ेगी और बाजार से उनका जुड़ाव भी बढ़ेगा।
Share To:

Post A Comment: