दनकौर के ऐतिहासिक द्रोणाचार्य मंदिर पर राधा अष्टमी  का पर्व  मनाया गया





दनकौर के ऐतिहासिक द्रोणाचार्य मंदिर पर राधा अष्टमी  का पर्व  मनाया गया इस मौके पर मंदिर के संचालक महिपाल गर्ग ने कहा कि इसी दिन श्री राधा रानी बरसाने में प्रकट हुई थीं। कहते हैं कि जब उनके पिता वृषभानु जी यज्ञ स्थल की सफाई कर रहे थे। उस समय उन्हें देवी राधा वहां मिलीं और वृषभानु जी ने उन्हें अपनी पुत्री के रूप में स्वीकार किया। राधा रानी की माता का नाम कीर्ति है। हर साल भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को यानी जन्माष्टमी के पन्द्रह दिन बाद राधा अष्टमी मनाई जाती है। माना जाता है कि जो श्रद्धालु भगवान कृष्ण के लिए जन्माष्टमी का व्रत करते हैं। उन्हें श्री राधा रानी के लिए राधा अष्टमी का व्रत भी जरूर करना चाहिए अन्यथा जन्माष्टमी के व्रत को पूर्ण नहीं होता है। इस मौके पर लक्ष्मी नारायण गर्ग अनुज तायल अतुल बंसल संजय गोयल पंसारी भी मौजूद रहे

Share To:

Post A Comment: