कोरोना वायरस के संक्रमण से जन सामान्य को सुरक्षित करने के लिए सरकार निरंतर संवेदनशील।  उत्तर प्रदेश सरकार के वित्त, संसदीय कार्य एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने जिम्स ग्रेटर नोएडा अस्पताल का किया स्थल निरीक्षण।  सभी चिकित्सकों का बढ़ाया हौसला।  सरकार के द्वारा कोरोना संक्रमित व्यक्तियों को सुरक्षित करने के उद्देश्य से पर्याप्त व्यवस्थाएं की जा रही हैं सुनिश्चित।



जिम्स अस्पताल में कोरोना को दृष्टिगत रखते हुए सो बैड अतिरिक्त किए जाएंगे तैयार।  सरकार के द्वारा मानकों के अनुरूप पर्याप्त बजट कराया जाएगा उपलब्ध।  कोविड-19 को लेकर जिम्स एवं  चाइल्ड पीजीआई के निदेशक को प्रस्ताव भेजने के मंत्री ने दिए निर्देश।  कोरोना वायरस के संक्रमण से सभी नागरिकों को सुरक्षित एवं कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के उद्देश्य से उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा निरंतर युद्ध स्तर पर कार्य किया जा रहा है। इसी श्रंखला में आज उत्तर प्रदेश सरकार के वित्त संसदीय कार्य एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग उत्तर प्रदेश सुरेश कुमार खन्ना के द्वारा अपने भ्रमण कार्यक्रम के दौरान जिम्स अस्पताल ग्रेटर नोएडा में पहुंचकर स्थल निरीक्षण किया गया। जहां पर कोरोना संक्रमित व्यक्तियों को दिए जा रहे इलाज के संबंध में माननीय मंत्री के द्वारा गहन समीक्षा की गई। माननीय मंत्री ने अपने स्थल निरीक्षण के दौरान कोरोना से संक्रमित संवेदनशील श्रेणी के 5 मरीजों से फोन के माध्यम से वार्तालाप करते हुए उनका हालचाल भी मालूम किया गया तथा कोविड-19 प्रोटोकॉल के अनुरूप मिल रहे इलाज के संबंध में मरीजों से पूछताछ की गई। सभी मरीजों ने सही इलाज होना मंत्री जी को अवगत कराया गया है। तत्पश्चात माननीय मंत्री के द्वारा जिम्स अस्पताल की फैकल्टी के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक करते हुए महामारी की संकट की इस घड़ी में उनके द्वारा किए जा रहे इलाज एवं सेवा के संबंध में उनके कार्यों की भूरी भूरी प्रशंसा की गई और उनका हौसला बढ़ाते हुए आगे भी इसी प्रकार कार्य करने के लिए प्रेरित किया गया। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि प्रशासनिक पुलिस एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के द्वारा उत्तर प्रदेश में ऐसे प्रयास किए गए हैं जिसके कारण पूरे प्रदेश में कोरोना संक्रमण फैलने से रोकने में प्रदेश में अन्य प्रदेशों की भांति सबसे अच्छा कार्य हुआ है। छोटे से छोटे प्रदेशों में कोरोना से हमारे प्रदेश से अधिक मृत्यु हुई हैं। उन्होंने कहा कि पूरे प्रदेश में कोरोना टेस्ट 100 से शुरू करते हुए आज पूरे प्रदेश में 26500 संक्रमित संक्रमित व्यक्तियों का टेस्ट प्रतिदिन किया जा रहा है। अतः सभी चिकित्सक तथा अन्य प्रशासनिक अधिकारी गण इसी क्षमता के साथ आगे भी प्रयास करते रहें ताकि कोरोना संक्रमित सभी व्यक्तियों का प्रोटोकॉल के अनुरूप इलाज संभव हो सके और वह स्वस्थ होकर अपने घर पहुंच सके। माननीय मंत्री ने कंप्यूटर डिस्प्ले के माध्यम से सभी वार्ड में कोविड-19 के मरीजों को दिए जा रहे इलाज एवं अन्य सुविधाओं के संबंध में गहनता के साथ जांच की गई जिसमें सभी कार्य संतोषजनक पाया गया है। 24 घंटे सभी वार्डों में ऑक्सीजन की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। वर्तमान में जिम्स अस्पताल में डेढ़ सौ बेड की व्यवस्था सुनिश्चित है जिसके माध्यम से कोरोना संक्रमित व्यक्तियों का इलाज संभव कराया जा रहा है। निदेशक राकेश गुप्ता ने मंत्री जी को जानकारी देते हुए अवगत कराया कि अस्पताल में 100 अतिरिक्त बेड की व्यवस्था तत्काल प्रभाव से सुनिश्चित की जाएगी। उन्होंने अस्पताल में और अधिक सुविधाओं के संबंध में 18 पद पीजीआई के स्वीकृत करने के संबंध में शासन स्तर पर लंबित बताया गया है। उन्होंने जिम्स अस्पताल में ट्रामा सेंटर एवं डायलिसिस मशीन के स्थापना तथा अन्य व्यवस्थाओं के संबंध में माननीय मंत्री को अवगत कराया गया ताकि सभी मरीजों को अन्य और सुविधाएं भी अस्पताल में उपलब्ध हो सके। माननीय मंत्री ने जिम्स के निदेशक को सभी समस्याओं एवं डिमांड के संबंध में प्रस्ताव तैयार कर उन्हें तथा शासन को भेजने के निर्देश दिए हैं। माननीय मंत्री ने चाइल्ड पीजीआई   के निदेशक से बैठक में विचार विमर्श करते हुए उन्हें भी इसी प्रकार प्रस्ताव तैयार करने के लिए निर्देशित किया गया है। माननीय मंत्री जी के द्वारा समीक्षा के दौरान पाया गया कि जिम्स अस्पताल में वर्तमान तक 605 मरीज कोरोना संक्रमित भर्ती हुए हैं जिसके सापेक्ष 451 मरीज ठीक होकर अपने घर पहुंच चुके हैं। ठीक हुए सभी मरीजों के सर्वे के आधार पर 94% मरीजों के द्वारा अस्पताल को लाइक किया गया है। ज्ञातव्य हो कि आज सुबह 11:00 जीबीयू विश्वविद्यालय में चौपड़ से उतरने के उपरांत जिम्स अस्पताल का गहन स्थल निरीक्षण किया गया। दोपहर लगभग 1:00 बजे चौपड़ के माध्यम से जनपद गाजियाबाद के लिए रवाना हुए। भ्रमण के दौरान माननीय मंत्री के साथ में जिला अधिकारी सुहास एल वाई, मुख्य  विकास अधिकारी अनिल कुमार सिंह, डीसीपी राजेश कुमार, उप जिलाधिकारी सदर प्रसून द्विवेदी, तहसीलदार आलोक प्रताप सिंह, अस्पताल के निदेशक राकेश गुप्ता, चाइल्ड पीजीआई के निदेशक डॉ डीके गुप्ता, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ दीपक अहोरी स्वास्थ्य विभाग के अन्य अधिकारी गण तथा प्रशासनिक अधिकारी गण उपस्थित रहे। 
Share To:

Post A Comment: