महिलाओं की मुहिम कोई भूखा ना रहे को चलते हुए 50 दिन पूरे
हो गए । महिला आपदा राहत द्वारा पहले  120 लोगों का भोजन तैयार किया जाता था अब लेबर बढ़ जाने के कारण 200 व्यक्तियों के लिए खाना बनाया जाता है ।बता दे लॉक ड़ाउन की वजह से बेसहारा हुए भूखे लोगों की मदद की इच्छा से ये मुहिम अंजू पुंडीर और गीता पुंडीर ने शुरू की थी ।चूंकि किसी एक समिति के माध्यम से इतने दिन ये मुहिम चलाना नामुमकिन सा था इसलिए शहर की अन्य महिला समाजसेवियों को जोड़ कर एक महिला आपदा राहत दल का गठन किया गया ।फिर निरंतर कारवां बढ़ता गया और महिलाओं की सीमित बचत में से निरंतर मदद पहुंचाने का प्रयास जारी हैं । ये कारवाँ ना रुका था ना रुकेगा ।हमारी इस मुहिम में अनिल शर्मा जी अपना पूरा योगदान दिया रिक्शे से खाना लाने में और भोजन वितरित करवाने में । ममता ठाकुर , निधि महेश्वरी , रूपा गुप्ता ,उषा चौधरी
वीना शुक्ला , साधना सोनी कविता जादौंन , ममता शर्मा डॉक्टर सुचित्रा ,उज्जवल भविष्य ट्रस्ट,सुमन चौधरी ,सुशीला , संजना शर्मा , नीलम गोयल ,निशा चौहान , पिंकी कसाना , Shurti गोयल , आदि समाजसेवियों का पूरा सहयोग मिला ।
Share To:

Post A Comment: