लॉकडाउन में 20 अप्रैल से ढील देने की अटकलों पर जिलाधिकारी सुहास एलवाई ने विराम लगा दिया है। सेक्टर-6 स्थित इंदिरा गांधी कलाकेंद्र में प्रेसवार्ता में डीएम ने साफ कर दिया कि आवश्यक वस्तुओं के अलावा किसी भी कंपनी या प्रतिष्ठान को खोलने की अनुमति नहीं
है।

वहीं, लॉकडाउन का और सख्ती से पालन कराया जाएगा। साथ ही किसी भी तरह की कंपनी या भवन निर्माण आदि की भी अनुमति नहीं है। असंतोषजनक स्थिति में शामिल होने के कारण जिले में यह कार्रवाई की गई है।

जिलाधिकारी ने कहा कि लोग अफवाहों से बचें और सोशल मीडिया पर बिना जांच-पड़ताल के कोई पोस्ट नहीं करें। महामारी की स्थिति को देखते हुए पुलिस आयुक्त आलोक सिंह, ग्रेनो प्राधिकरण सीईओ नरेंद्र भूषण, नोएडा प्राधिकरण सीईओ रितु माहेश्वरी, यमुना प्राधिकरण सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह आदि ने मिलकर लॉकडाउन में ढील नहीं देने का निर्णय लिया है।

आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति, चिकित्सा और अपरिहार्य स्थितियों के अलावा किसी के लिए छूट नहीं है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में कृषि और पशुपालन संबंधित कार्यों को रियायत दी गई है। लेकिन, उन्हें मास्क लगाकर और सामाजिक दूरी का पालन करते हुए कार्य करने की अनुमति है। वहीं, आवश्यक वस्तुओं की नई औद्योगिक इकाई को भी चलाने की अनुमति नहीं है।

पहले से खुले सरकारी कार्यालयों में पूर्व की भांति कार्य होगा। 3 मई तक सभी को लॉकडाउन का पालन करना होगा। वहीं, जो उल्लंघन करेगा उसके खिलाफ आपदा अधिनियम के तहत कठोर कार्रवाई की जाएगी। डीएम ने सभी अस्पतालों को चेताया कि मरीज का इलाज प्राथमिकता पर किया जाए। वहीं, कोविड-19 की जांच में कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।
Share To:

Post A Comment: