राजकीय आयुर्विज्ञान संस्थान के निर्माण में हुए भ्रष्टाचार में लिप्त अधिकारियों को जेल भेजा जाए,चौ.प्रवीण भारतीय
ग्रेटर नोएडा:ग्रेटर नोएडा के कासना में स्थित राजकीय आयुर्विज्ञान संस्थान के निर्माण में हुए भ्रष्टाचार की जांच कर दोषी अधिकारियों को सस्पेंड एवं जेल भेजने की मांग को लेकर करप्शन फ्री इंडिया संगठन ने मुख्यमंत्री को संबोधित पत्र एडीएम दिवाकर सिंह को सौंपा ज्ञापन संगठन के संस्थापक सदस्य आलोक नागर के नेतृत्व में सौंपा गया,
करप्शन फ्री इंडिया संगठन के संस्थापक चौधरी प्रवीण भारतीय ने बताया कि ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण के द्वारा सन् 2012 में कासना गांव में राजकीय आयुर्विज्ञान संस्थान का निर्माण कराया था जिस निर्माण कार्य में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के द्वारा 900 करोड रुपए खर्च कर संस्थान को बनाया गया,चौधरी प्रवीण भारतीय ने बताया कि निर्माण कार्य में प्राधिकरण के अधिकारियों की द्वारा लापरवाही एवं भ्रष्टाचार किया गया था जिस कारण संस्थान के निचले द्वितीय तल की जमीन एवं दीवारों से स्वत: ही पानी निकल रहा है उन्होंने बताया कि द्वितीय तल में पानी भर जाता है जिस पानी को बाहर निकालने के लिए 32 समर पंप लगाए गए हैं जिन पंपों के माध्यम से कई लाख लीटर पानी को प्रतिदिन बर्बाद किया जा रहा है
संगठन की कोर कमेटी के सदस्य संजय भैया ने बताया कि इस बिल्डिंग की जांच आईआईटी रुड़की के द्वारा कराई गई थी जिस जांच में पाया गया है कि बिल्डिंग को मानकों के आधार पर नहीं बनाया गया एवं प्राधिकरण के अधिकारियों के द्वारा महत्वपूर्ण कार्य में घोर लापरवाही बरती गई उन्होंने बताया कि आईआईटी रुड़की की जांच में जानकारी आई है कि इस कमी को ठीक करने के लिए 2 करोड़ 31 लाख 63000 रुपए का खर्च किया जाएगा संजय भैया ने कहा कि इस तरह जनता के पैसे का दुरुपयोग करना गलत है इस धन की वसूली प्राधिकरण के अधिकारियों से की जाए और भ्रष्ट अधिकारियों को तत्काल सस्पेंड कर जेल भेजा जाए ,
इस दौरान बलराज हूण आलोक नागर रवि भाटी संजय भैया रामपाल सिंह गौतम नगर गजेंद्र भाटी सरजीत मंडार आदि लोग उपस्थित रहे
Share To:

Post A Comment: