सनसनीखेज हत्याकांड का
सूरजपुर पुलिस ने खुलासा कर एक अभियुक्त को किया गिरफ्तार


ग्रेटर नोएडा।  ग्रेटर नोएडा के सुरजपुर
कोतवाली प्रभारी जितेन्द्र सिंह दीखित ने अपने पुलिस बल एसआई लोकेश कुमार शर्मा, एसआई जितेन्द्र बालियान, कास्टेंबल 19 नीरज, कास्टेंबल 728 विनय, कास्टेंबल 1125 विजय के साथ मिलकर शनिवार को खुलासा कर एक अभियुक्त नरेन्द्र पुत्र श्यामवीर सिंह निवासी भंडौली थाना अगौता जिला बुलन्दशहर को गिरफ्तार कर हत्याकांड का खुलासा कर दिया। जबकि दो अभियुक्तगण दिनेश पुत्र विजयपाल सिंह निवासी प्रेमनगर छपरौला बिसरख गौतमबुद्धनगर, सोनू उर्फ करन सिंह पुत्र जगपाल चौधरी निवासी सचिन विहार खोडा गाजियाबाद हाल किरायेदार ग्राम छलैरा सैक्टर 37 गौतमबुद्धनगर अभी फरार चल रहे हैं। पकड़े गए अभियुक्त के कब्जे से पुलिस ने आलाकत्ल एक तमंचा तीन सौ पन्द्रह बोर मय एक खोका कारतूस बरामद किया है। गौरतलब है कि 24 जनवरी 2020 को थाना दादरी क्षेत्रान्तर्गत एक अज्ञात युवक की लाश मिली थी। जिसके शरीर पर गोलियों के निशान थे। इस अज्ञात युवक की पहचान राहुल पुत्र महीपाल सिंह निवासी विसुन्धरा थाना औरंगाबाद जिला बुलन्दशहर के रूप में हुई थी। इस सम्बन्ध में राहल की गुमशुदगी पूर्व में थाना सूरजपुर पर दर्ज की गयी थी। अतः विवेचना थाना सूरजपुर स्थानान्तरित हुई। प्रभारी निरीक्षक सूरजपुर के नेतृत्व में टीम गठित कर इस सम्बन्ध में गहन विवेचना की गयी तो मृतक के परिजनों द्वारा अवगत कराया गया कि मृतक राहल ने 15 जनवरी 2020 को दोपहर में अपने भाई गौरव को फोन करके बताया था कि शाम को यदि मेरा फोन बन्द हो जाये तो सोनू के मोबाइल पर बात करना तथा उसने अपने मोबाइल से सोनू का नंबर अपने भाई गौरव को एसएमएस किया था। परिजनों द्वारा दिये गये सोनू के मोबाइल नंबर की डिटेल से 15 जनवरी 2020 को सोन् के सम्पर्क में रहे। सभी व्यक्तियों की तस्दीक की गयी तो रोचक तथ्य प्रकाश में आये तथा इसी आधार पर संदिग्ध व्यक्तियों से पुछताछ शुरू की गयी तो बुलन्दशहर के गैंगस्टर अपराधी नरेन्द्र निवासी भंडौली थाना अगौता जिला बुलन्दशहर का नाम प्रकाश में आया। जिस पर जनपद बुलन्दशहर में दर्जनों मुकदमें दर्ज है। टीम दवारा लगातार अथक प्रयास कर अभियुक्त नरेन्द्र को हिरासत में लेकर गहनता से पूछताछ की गयी तो नरेन्द्र ने समस्त घटनाक्रम का खुलासा कर बताया कि 15 जनवरी 2020 को मै तथा राहल, दिनेश और सोनू ने गाजियाबाद में आईसीआईसीआई बैंक के एटीएम को काटकर पैसा चुराने की योजना बनायी थी। दिनेश अपनी सेन्ट्रो कार लेकर आया था जिसमें हम अपना गैस कटर भी साथ लेकर गये थे।15/16 जनवरी 2020 की रात्रि में करीब 12.30 बजे जब हम एटीएम काट रहे थे तो पड़ोस का एक व्यक्ति ने एटीएम के पास आकर देखकर घटना के सम्बन्ध में शोर मचा दिया। वहाँ भीड़ होता देख हम लोग गैस कटर वही छोड़कर सेन्ट्रो कार में भाग गये। तथा योजना असफल होने पर सोनू व राहुल में झगड़ा हो गया दोनों एक दूसरे पर दोषारोपण करने लगे। झगड़ा इतना बढ़ गया कि सोनू ने अपनी देशी पिस्टल से राहुल के सीने पर गोली मार दी जिससे राहुल करहाने लगा तब इन तीनों ने यह योजना बनायी की अब इसे मार देना ही ठीक रहेगा नहीं तो हम तीनों फंस जायेंगे। तब तीनों जनपत और रामगढ के रास्ते से होते हए एक सुनसान रास्ते पर पहुंचे जहाँ रास्ते के दाहिने तरफ बने तालाब में राहुल को फेंकने के लिए गाड़ी से निकाला तब भी राहल जीवित था। तब नरेन्द्र और दिनेश ने राहल के सिर में एक एक गोली मारी और उसे तालाब में फेंक दिया और तीनों कार से भाग गये। एटीएम तोड़ने के प्रयास का अभियोग थाना विजयनगर गाजियाबाद पर पंजीकृत हैं। जहाँ गैस कटर भी एटीएम से बरामद हुआ था। जो घटना को अभियुक्त नरेन्द्र के कथनानुसार प्रमाणित करता है। गहन विवेचना में नरेन्द्र ने भागते समय तमंचा जहाँ फेका था आलाकत्ल के रूप में पुलिस को बरामद करा दिया है। घटना में फरार अभियुक्तों की तलाश जारी है शीघ्र ही गिरफ्तारी कर निस्तारण किया जायेगा।अभियुक्त नरेन्द्र पर थाना अगौता, थाना खुर्जा देहात, तथा थाना जहाँगीराबाद में अभियोग पंजीकृत हैं। थाना खुर्जा देहात से गैंगस्टर में जेल गया है दर्जनभर मुकदमों की जानकारी हुई है। अन्य जनपदों से भी आपराधिक जानकारी की जा रही है
Share To:

Post A Comment: