लिटिल बडी प्रीस्कूल का नॉएडा में शुभारम्भ, विदेशी प्रणाली से होगी बच्चों की प
ढाई


• यू.के. पाठ्यक्रम पर आधारित देश का पहला प्रीस्कूल
• बच्चों के लिए विशेष क्रिएटिव लर्निंग, फिटनेस एरिया और नैप रूम की व्यवस्था
• पढ़ाई के लिए एक खुशनुमा और सुरक्षित वातावरण का निर्माण
• आधुनिक शिक्षा प्रणाली से बच्चों का होगा विकास

नई दिल्ली, 27 जनवरी । लिटिल बडी प्रीस्कूल ने हाल ही में अपनी लेटेस्ट फ्रेंचाइज़ी का उद्घाटन किया, यह उद्घाटन नोएडा के जीटी – 41, सेक्टर- 93 गेजा गाँव में हुआ। यह स्कूल यू.के पाठ्यक्रम पर आधारित है- उद्घाटन के दौरान लिटिल बडी प्रीस्कूल ने अपनी पढ़ाने की आधुनिक तकनीकों के बारे में बताया। इस उद्घाटन में एडमिशन लेने वाले बच्चे, उनके माता-पिता, स्टाफ और  मीडिया भी मौजूद रहा।
यह स्कूल आज के बच्चों की सभी ज़रूरतों और उम्र के अनुसार पाठ्यक्रम तैयार करता है, पहली मंज़िल पर खेलने के लिए क्षेत्र बनाया गया है। नर्सरी के बच्चों के लिए क्रिएटिव लर्निंग के स्पेस, प्ले एरिया, नैप रुम और हेल्थ और फिटनेस एरिया भी बनाया गया है।
आगमन दीवान, मास्टर फ्रैंचाइज़ी - दिल्ली, यूपी और एनसीआर ने कहा, "हम नोएडा में लिटिल बडी प्रीस्कूल के उद्घाटन से बेहद खुश हैं। हम बच्चों के लिए एक संभव वातावरण का निर्माण करते हैं जिसमें बच्चे अच्छे से शिक्षा ग्रहण कर सकें और उन में सीखने की लगन पैदा हो।
एकेडेमिक्स निदेशक श्री रम्या गंगाधरन ने कहा कि “हम एक ऐसा वातावरण बनाने का प्रयास कर रहे हैं जो बच्चों को पढ़ने के लिए विकसित और प्रोत्साहित करेगा। हमारी प्लानिंग पर्यावरण को सक्षम करने के साथ यूके के स्कूलों के साथ बच्चों के लिए इंटरैक्टिव सेशन भी प्रदान करना हैं। हमारे प्रत्येक यूनिट को तकनीकी रूप से सक्षम बनाया गया है ताकि वे इंटरएक्टिव रोबोट और चाइल्ड डॉक्यूमेंटेशन सॉफ्टवेयर के साथ हर बच्चे को यू.के पाठ्यक्रम के अनुसार शिक्षित कर सकें।

लिटिल बडी प्रीस्कूल के बारे में :
लिटिल बडी प्रीस्कूल एक खुशनुमा और सुरक्षित वातावरण प्रदान करता है जहाँ हर बच्चे को सपने देखने, तलाशने और सवाल करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। यहाँ सपनों को पूरा करने की कोई जल्दी नहीं है लेकिन आराम से उनकी तरफ बढ़ने के लिए तैयार किया जाता है। वे पाठ्यक्रम में प्रत्येक बच्चे को जीवन की एक अच्छी शुरुआत देने तथा पारंपरिक मूल्यों दोनों को शामिल करते हैं। वे हर बच्चे के सीखने और विकास में समर्थन करते है, माता-पिता और शिक्षकों के साथ सफल संबंध बनाते हैं। यह स्कूलकी धारणा हा कि हर बच्चा अपने आप में अलग विशेष है। यह स्कूल बच्चों को अलग-अलग माध्यम से शिक्षित करता है ताकि हर बच्चा हर एक विषय को अच्छी तरह से समझ सकें।
Share To:

Post A Comment: