शारदा विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ नर्सिंग साइंस एंड रिसर्च ने जनरल नर्सिंग एंड मिडवाइफरी की पढ़ाई कर रहे विद्यार्थियों के बेहतर भविष्य और उन्हें सफल नर्स बनाने के लिए "दीप-प्रकाशोत्सव एवं शपथ ग्रहण समारोह का आयोजन किया

गया।यह समारोह नर्सिंग की नायिका, फ्लोरेंस नाइटिंगेल की याद में मनाया गया।
भारत की प्रशिक्षित नर्स संघ के दक्षिण क्षेत्र की उपाध्यक्ष डॉ जैनी केम्प मुख्य अतिथि के रूप में कार्यक्रम में उपस्थित थी।
       शारदा विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. जी. आर. सी. रेड्डी, स्कूल ऑफ नर्सिंग साइंस एंड रिसर्च की डीन प्रो. पोलिन शर्मीला, स्कूल ऑफ़ मेडिकल साइंस एंड रिसर्च के प्रो. वाईस चांसलर डॉ. पी. एल. कोरिहोलू, नर्सिंग अधीक्षक रोज़लिन बैनडिक और मुख्य अतिथि डॉ जैनी केम्प ने साथ में दीप प्रज्ज्वलित करके कार्यक्र्म की शुरुआत की।
       मुख्य अतिथि का स्वागत कुलपति डॉ. जी. आर. सी. रेड्डी और स्कूल ऑफ नर्सिंग साइंस एंड रिसर्च की डीन प्रो पोलिन शर्मीला ने किया।
       सभी विद्यार्थियों को स्कूल ऑफ़ मेडिकल साइंस एंड रिसर्च की नर्सिंग अधीक्षक रोज़लिन बैनडिक ने नर्सिंग की नायिका, फ्लोरेंस नाइटिंगेल की याद में दीप जलाकर अपने प्रोफेशन के लिए शपथ दिलाई ।
       स्कूल ऑफ नर्सिंग साइंस एंड रिसर्च की डीन प्रो. पोलिन शर्मीला ने कहा की  इस दीप-प्रकाश एवं शपथ ग्रहण समारोह का उद्देश्य मानवीय सेवा के रूप में नर्सिंग की विशिष्टता को पहचानना और नर्सिंग पेशे के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण को उजागर करना है।
       मुख्य अतिथि डॉ. जैनी केम्प ने बताया की नर्सिंग में व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन में ईमानदारी, अखंडता, टीम वर्क, उत्कृष्टता और गुणवत्ता को विकसित करने के महत्व पर जोर देने की आवश्यकता है । नर्सिंग एक स्वास्थ्य देखभाल पेशा है जिसमें बीमार या बीमारियों की देखभाल शामिल है। नर्सिंग किसी भी स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली का एक अनिवार्य हिस्सा है।
      कुलपति डॉ. जी. आर. सी. रेड्डी ने कहा नर्सिंग करने के बाद आप सरकारी और निजी अस्पतालों में नौकरी कर सकते हैं।  इतना ही नहीं इसके अलावा आप स्कूल हेल्थ नर्सेस, इंडस्ट्रीयल नर्स और आर्म्ड फोर्सेस, ड्रग कंपनी, कम्युनिटी हेल्थ नर्सेस, स्पेशल क्लिनिक व केयर सेंटर और काउंसलिंग सेंटर में भी नौकरी के अच्छे अवसर हैं।
       प्रो. वाईस चांसलर डॉ. पी. एल. कोरिहोलू ने कहा की नर्स को रोगियों की सुरक्षा और कल्याण का सम्मान करने के साथ साथ अपने ज्ञान, कौशल और निर्णय की सीमा को भी समझना जरुरी है ।
कार्यशाला के अंत में स्कूल ऑफ नर्सिंग साइंस एंड रिसर्च की डीन प्रो. पोलिन शर्मीला और स्कूल ऑफ़ मेडिकल साइंस एंड रिसर्च के प्रो. वाईस चांसलर डॉ. पी. एल. कोरिहोलू ने मुख्य अतिथि डॉ. जैनी केम्प को स्मृति चिन्ह और शॉल देकर सम्मानित किया और धन्यवाद ज्ञापन किया।

डॉ
Share To:

Post A Comment: