उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड जारी है। दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान और उत्तर प्रदेश सहित उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में पिछले एक पखवाड़े से कड़ाके की ठंड से गुरुवार को पूर्वी हवाओं के जोर पकड़ने के कारण थोड़ी राहत मिली, मगर मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और उत्तराखंड में हल्की बारिश के कारण ठिठुरन भरी सर्दी का दौर अब भी बरकरार है। इतना ही नहीं, शिमला और हिमाचल प्रदेश के कुछ इलाकों में बर्फबारी की वजह से एक बार फिर से सर्दी का असर बढ़ सकता है। नए साल के दूसरे दिन दिल्ली, यूपी और बिहार समेत कुछ हिस्सों में ठंड से राहत मिली। शुक्रवार को दिल्ली का न्यूनतम तापमान 11 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

स्काईमेट की वेबसाइट के मुताबिक, बंगाल की खाड़ी से आर्द्र हवाएं आ रही हैं। उम्मीद है कि आज यानी तीन जनवरी को कोलकाता, रांची, जमशेदपुर, मिर्ज़ापुर सहित पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड ओडिशा और गंगीय पश्चिम बंगाल में में हल्की बारिश दर्ज की जाएगी।

पूर्वोत्तर राज्यों में भी तेज बारिश का अनुमान है। कई जगहों पर हल्की सी मध्यम बारिश के साथ एक-दो स्थानों पर भारी बर्फबारी भी हो सकती है। अरुणाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले इलाकों में भी हल्की बर्फबारी हो सकती है। जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में हल्की बारिश और बर्फबारी की उम्मीद है। उत्तर पश्चिम भारत के भागों में मौसम शुष्क लेकिन ठंडा रहेगा। हालांकि उत्तरी पंजाब और उत्तर-पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में बादलों की गर्जना हो सकती है।


उत्तरी मैदानी इलाकों के अधिकांश स्थानों पर कोल्ड डे की स्थिति समाप्त हो जाएगी क्योंकि दिन के तापमान में कुछ और वृद्धि का अनुमान है। दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक चिंताजनक स्तर पर रहेगा।


दिल्ली में 1992 के बाद से सबसे लंबे समय तक तक रहने वाली शीतलहर के बाद बृहस्पतिवार को लगातार दूसरे दिन तापमान में वृद्धि हुई। दिल्ली में अधिकतम तापमान 20.5 डिग्री सेल्सियस रहा जो सामान्य से तीन डिग्री अधिक है। न्यूनतम तापमान इस मौसम के औसत तापमान से तीन डिग्री कम 4.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसमविज्ञानियों ने कहा कि अगले दो दिनों में न्यूनतम तापमान बढ़कर सात डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने की संभावना
है। हालांकि शहर में प्रदूषण स्तर जस का तस बना हुआ है। बृहस्पतिवार को दिल्ली की वायु गुणवत्ता 417 मापी गई जो 'गंभीर श्रेणी में आती है।

स्काईमेट वेदर के उपाध्यक्ष (मौसम विज्ञान और जलवायु परिवर्तन) महेश पलावत ने कहा, "बृहस्पतिवार को हल्की बारिश की उम्मीद थी, लेकिन बारिश नहीं हुई। छह से आठ जनवरी के बीच बारिश होने की संभावना है।" हिमाचल प्रदेश में बृहस्पतिवार को शीतलहर का प्रकोप कायम रहा और शिमला में बर्फबारी हुई।

विभाग के अधिकारी ने अगले सात दिनों में राज्य के मध्यम और ऊंचाई वाले पहाड़ी इलाकों के कई स्थानों पर बर्फबारी और बारिश तथा मैदानी इलाकों में गरज के साथ बारिश होने का अनुमान जताया है। राज्य में न्यूनतम तापमान सामान्य से एक से दो डिग्री सेल्सियस नीचे रिकॉर्ड किया गया जबकि अधिकतम तापमान दो से तीन डिग्री सेल्सियस कम रहा।

उत्तर प्रदेश के लोगों को बृहस्पतिवार को तापमान बढ़ने से ठंड से थोड़ी राहत मिली। मौसम विभाग के अनुसार बृहस्पतिवार को मेरठ और बहराइच का न्यूनतम तापमान क्रमश: 6.7 डिग्री सेल्सियस और 7.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो बुधवार से अधिक था। राज्य की राजधानी लखनऊ में न्यूनतम तापमान 8.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग ने शुक्रवार को राज्य के पूर्वी जिलों में गरज के साथ हल्की बारिश का अनुमान जताया है।

राजस्थान में कुछ स्थानों पर घना कोहरा छाया रहा। वनस्थली न्यूनतम तापमान 3.3 डिग्री सेल्सियस के साथ राज्य का सबसे ठंडा स्थान रहा उसके बाद फतेहपुर न्यूनतम तापमान 3.4 डिग्री डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। पंजाब और हरियाणा में लोगों को ठंड से बृहस्पतिवार को भी राहत नहीं मिली और यहां शीतलहर का कहर बरकरार है। मौसम विभाग ने बताया कि हरियाणा के नारनौल में न्यूनतम तापमान 1.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो कि सामान्य से तीन डिग्री सेल्सियस कम है।
Share To:

Post A Comment: