भारतीय रेल यात्रियों की यात्रा सुगम और सुरक्षित बनाने के लिए कई काम कर रही है। इसी कड़ी में रेलवे ने अब यात्रियों की मदद के लिए जारी कई हेल्पलाइन नंबर को बदलकर सभी तरह की जानकारी और मदद के लिए सिर्फ एक हेल्पलाइन नंबर जारी किया है। अब यात्रियों को रेलवे से जुड़ी किसी तरह की मदद या जानकारी के लिए एक ही नंबर डायल करना होगा। वह नंबर है 139। अब यात्रियों को कई हेल्पलाइन नंबर नहीं याद करने पड़ेंगे, रेल से संबंधित कोई भी मदद सिर्फ 139 डायल करके प्राप्त कर सकते हैं।


भारतीय रेल यात्रा को और भी आसान बनाते हुए रेलवे से जुड़ी कोई भी मदद या जानकारी के लिए अब एक ही नंबर है
अलग-अलग हेल्पलाइन नंबरों से यात्रियों को होने वाली परेशानियों को दूर करने के लिए रेलवे ने यह कदम उठाया है। अब सभी तरह की सुविधाएं, पूछताछ और शिकायत के लिए हेल्पलाइन नंबर 139 ही काम करेगा। इसके चलते अब यात्रियों को अलग-अलग नंबर याद रखने की जरूरत नहीं होगी। हालांकि, हेल्पलाइन नंबर 182 बरकरार रहेगा।

इससे पहले रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बुधवार को ट्वीट कर बताया था, 'रेलवे की विभिन्न हेल्पलाइन नंबरों को एकीकृत कर 139 में बदल दिया गया है, यह नंबर इंटरएक्टिव वॉइस रिस्पांस पर आधारित है। यह व्यवस्था 1 जनवरी से लागू की जा रही है, इसके शुरू होने पर यात्रियों को सहायता के लिए अलग-अलग नंबरों के स्थान पर सिर्फ एक हेल्पलाइन नंबर 139 को याद रखना होगा।'

पहले रेलवे में यात्री सुविधा और सेवा के कई नंबर थे, जिससे कई बार यात्री हेल्पलाइन नंबरों की सर्विस को लेकर कन्फ्यूज हो जाते थे। इसी को देखते हुए रेलवे ने यह पहल की है और अब  सिर्फ 139 नंबर का इस्तेमाल करके रेलवे से जुड़ी हर समस्या का निपटारा कर सकते हैं।

पहले 138 हेल्पलाइन नंबर शिकायत के लिए, 1072 दुर्घटना एवं सुरक्षा की स्थिति के लिए, 58888/138 कोचों की सफाई के लिए, 1098 सामान खोने या लापता हुए बच्चों के लिए, 155210 विजिलेंस से शिकायत के लिए, 1800111321 नंबर कैटरिंग संबंधी शिकायत के लिए, 1800111139 रेलवे इन्क्वायरी के लिए और 1800111322 रेलवे पुलिस की मदद के लिए हेल्पलाइन नंबर था। इसके अलावा 139 यह नंबर पर PNR, कैंसिलेशन, किराए की जानकारी, सीटों की उपलब्धता और ट्रेन की ताजा स्थिति के बारे में जान सकते थे। अब ये सारी सुविधाएं 139 नंबर डायल करके मिल सकती हैं।
Share To:

Post A Comment: