चिराग ना बुझे किसी का हेलमेट मैन राघवेंद्र कुमार ने जागरूकता के लिए छोटे बच्चों को दिवाली पर हेलमेट दीया
.
आज दिवाली के दिन नई दिल्ली रेलवे स्टेशन अजमेरी गेट रेड लाइट गोल चक्कर पर जा रहे छोटे बच्चों को हेलमेट मैन उन्हें हेलमेट दे रहे थे. भारत सरकार ने 4 साल से ऊपर बच्चों के लिए भी हेलमेट का कानून लागू होता है. लेकिन सड़क पर चलने वाले एक भी गार्जियन अपने बच्चे के साथ ऐसे नियमों का पालन नहीं करते हैं. और आज दिवाली की चकाचौंध रोशनी और सारी खुशियां बधाइयां एक दूसरे को देने के लिए भागदौड़ लगी रहती है. घर का कोई कोना अंधेरा ना हो उसके लिए बाजार से लाइट लाकर रोशनी करते हैं क्योंकि उनके घर में सभी जगह लक्ष्मी जी का आगमन हो. लेकिन प्रतिदिन हेलमेट नहीं होने की वजह से हजारों घर के चिराग बुझ जाते हैं. एक छोटी सी गलती की वजह से जिस पर गार्जियन का कभी ध्यान नहीं जाता है.
आज दूसरों के चिराग को बचाने के लिए हेलमेट मैन राघवेंद्र कुमार ने उन्हें लाइट की जगह हेलमेट दिया. ताकि हर साल उनके घर में खुशी रहे और उनका चिराग सुरक्षित रहें. सरकार नियम लागू कर देती है लेकिन अभी भी लोगों में भारी संख्या में जागरूकता की कमी है. इसलिए हेलमेट मैन राघवेंद्र कुमार ने भारत सरकार से अपील किया है कोई भी प्राइवेट स्कूल और कॉलेज जिस तरह से ड्रेस स्कूल बैग और किताब लेना अनिवार्य स्कूल से है उसी तरह स्कूल वाले बच्चों को एक हेलमेट देने का भी नियम बनाएं.
तभी जाकर भारत में प्रतिवर्ष डेढ़ लाख मौत के आंकड़ा को कम किया जा सकता है. और सड़क सुरक्षा के प्रति लोगों में जागरूकता लाई जा सकती है. आज हमारे भारत में सड़क दुर्घटना से ढाई लाख लोग प्रतिवर्ष विकलांग हो जाते हैं. यह आंकड़ा मौत का और विकलांग भारत के लिए एक महामारी की समस्या है. जिसे हम सभी को मिलकर जागरूक करने की आवश्यकता है. भारत में जिस प्रकार लोग धर्म में आस्था रखते हैं उतनी सड़क सुरक्षा के प्रति आस्था नहीं है.हेलमेट मैन राघवेंद्र कुमार ने  लोगों को हेलमेट दिया और दीपावली की शुभकामनाएं दी.
उस कार्यक्रम में मौजूद शुभम सिंह, दीप कमल सुमित कुमार मोहम्मद फैजल, गौरव सिंह, अभिमन्यु सिंह. धनलक्ष्मी सिंह संजय सिंह. अंश सिंह, उषा सिंह,मौजूद रहे
Share To:

Post A Comment: