राम लीला में राम सीता विवाह का सुंदर  मंचन,भगवान रामचंद्र जी को हुआ बनवास



दनकौर। राम लीला में राम सीता विवाह का मंचन किया गया सियावर राम जब जानकी को वरमाला डालते हैं तो यह दृश्य भक्तों के मन में हर्ष का संचार उत्पन्न करता है रामलीला का यह सीन बेहद भाव पूर्ण रूप से मंचन में दर्शाया गया जनकपुरी वासी श्री राम और सीता के विवाह में हर्ष उल्लास के साथ जोड़ते हैं और मंगल गीत गाए जाते हैं इसके बाद कन्याकन्या दो कन्यादान का दर शुरू हो जाता है सीता विदाई केकई मनथ रा संवाद और राम बनवास का मंचन देर रात तक चला अयोध्या में भगवान राम के राजतिलक की चर्चा शुरू हो जाती है वही केकई मंत्रा के बहकावे में आकर भगवान राम की जगह भरत को राजगद्दी एवं राम को 14 वर्ष का वनवास राजा दशरथ से हट करके मांग लेती है वह पूर्व में दिए गए राजा दशरथ के वचन को याद दिलाती है यह सुनते ही राजा दशरथ का कलेजा कांप उठता है लेकिन रघुकुल रीत सदा चली आई पर प्राण जाए वचन न जाए स्नान करते हुए राजा दशरथ राम को 14 वर्ष के लिए बनवास भेज देते हैं यह देख कर दर्शक भाव विभोर हो जाते हैं सुमंत जी रथ में बैठा कर भगवान राम सीता लक्ष्मण को बन ले जाते है अयोध्या की प्रजा भी पीछे पीछे चली जाती है बन में भगवान राम को राजा भील से भेंट होती है तथा वह सबको विश्राम करने के लिए कह देते हैं सुमन मूर्छित हो जाते हैं भगवान राम भील से मिलने के बाद बन चले जाते हैं सुमंत आकर दशरथ जी को सारा वृतांत सुनाते हैं दशरथ जी राम के वियोग में तड़प तड़प कर मर जाते हैं आज की लीला का उद्घाटन दनकौर नगर पंचायत के चेयरमैन  अजय भाटी ने फीता काटकर किया इस मौके पर संरक्षक संदीप जैन मुकेश गोयल दीपक गर्ग अध्यक्ष राकेश तायल प्रबंधक मनीष गर्ग कोषाध्यक्ष मुकेश जैन महासचिव अंकुर गोयल एवं समस्त कमेटी के पदाधिकारी कलाकारों ने मुख्य अतिथि का बुके देकर और शॉल उड़ाकर सम्मानित किया राम का अभिनय सचिन गोयल एडवोकेट लक्ष्मण का प्रशांत कर भरत सक्षम कर शत्रुघ्न रितिक दशरथ दीपक गर्ग केकई दया वीर भाटी कौशल्या श्री चंद्र वर्मा राजा भीम मौजूद रहे।
Share To:

Post A Comment: