Jammu and kashmir : उमर-महबूबा नजरबंद, कश्मीर में धारा 144 शिक्षण संस्थान बंद; अटकलें तेज,हो सकता है बड़ा फैसला। 
 घाटी में आधी रात तेजी से बदला घटनाक्रम राज्यपाल ने बुलाई आपात बैठक। कश्मीर में धारा 144 लगाई गई शिक्षण संस्थान बंद।   अनुच्छेद-370 और 35 ए पर छिड़ी चर्चाओं के बीच जम्मू-कश्मीर में रविवार को देर रात घटनाक्रम तेजी से बदल गया। पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती को उनके घरों में नजरबंद कर लिया गया। कई नेताओं को या तो हिरासत में ले लिया गया या फिर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। इंटरनेट सेवाओं को भी बंद करने के साथ ही श्रीनगर में धारा 144 लगा दी गई है।


वादी के महत्वपूर्ण संस्थानों और संवेदनशील क्षेत्रों की चौकसी बढ़ा दी गई है। चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा बल तैनात हैं। राज्य के सभी जिलों में तमाम शिक्षण संस्थान अगले आदेश तक बंद कर दिए गए हैं। राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने तेजी से बदलते घटनाक्रम के बीच आपात बैठक बुलाई, जिसमें पुलिस और प्रशासन के बड़े अफसर शामिल हुए। इसमें राज्यपाल ने मुख्य सचिव को घटना पर नजर रखते हुए हर घंटे रिपोर्ट देने के लिए कहा है।

अफसरों को संपर्क के लिए सेटेलाइट फोन दिए गए हैं, क्योंकि मोबाइल सेवाएं बाधित होने की भी खबरें हैं। रविवार को ही श्रीनगर में कश्मीर के सियासी दलों की एक सर्वदलीय बैठक भी हुई, जिसमें अनुच्छेद 370 अथवा 35 ए में छेड़छाड़ को लेकर केंद्र सरकार को चेताया गया। उमर अब्दुल्ला और महबूबा ने दावा किया है कि उन्हें उनके घर में ही नजरबंद कर दिया गया है। हालांकि आधिकारिक तौर पर इसकी पुष्टि किसी ने नहीं की, लेकिन समाचार एजेंसी प्रेट्र ने आधिकारिक सूत्रों के हवाले से कहा है कि उमर और महबूबा को घर से न निकलने के लिए कहा गया है।
Share To:

Post A Comment: