हाईटेक जिला । पिता की शराब, सूदखोर के आतंक से जवान बेटे ने की आत्महत्या

गरीबी से उबारने के लिए शासन व प्रशासन ने तो की मदद,लेकिन सूदखोर के चंगुल में फंसकर की आत्महत्या

बिलासपुर। महंत मजदूरी कर अनिता योगी ने अपने दम व शासन प्रशासन के सहयोग से प्रधानमंत्री योजना के तहत आवास व हैंडपंप लगवा कर बच्चों के संग मेनहत कर सकून की जिंदगी जीने की तमन्ना पर शराबी पति व सूदखोर ने ग्रहण लगा दिया । अनिता योगी बताती है कि सालों पहले ठेली लगा चीले बेचने के लिए किसी सूदखोर से पति गोपाल योगी ने पांच हजार रुपये दस प्रतिशत ब्याज पर रुपये लिए थे । तीन बार पांच पांच सौ मेरे द्वारा भी अदा किया गया था । उसके पश्चात ठेली से रुपये वसूलने की बात थी । मेरे द्वारा सिकंद्राबाद एसवीसीएल प्राईवेट बैंक से मैने बेटे मोहित 19 वर्ष के कहने पर एक माह पहले स्कूटी अपने नाम खरीदी थी । जिससे बेटा कम्पनी में नौकरी कर मां बेटा मिलकर तैतीस सौ रुपये प्रति माह तीरानवे हजार रुपये चुकता कर देंगे । लेकिन पिछले वृहस्पति वार को स्कूटी पति गोपाल योगी से सूदखोर छीन कर ले गया । जो अभी तक सूदखोर के पास है । इसके सदमे से बेटा मोहित योगी ने घर में वृहस्पति वार रात में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली । उस समय मां अनिता योगी जलेसर एटा अपने मयके अपने बच्चे नंदनी, करन व प्रशांत को लेकर गई हुई थी ।
  शराबी पति व सूदखोर के कारण गरीबी का आलम यह है कि गाय के उपर छप्पर डालने तक पैसे नहीं है । ठेली टूटी पड़ी है । घर में सिलेंडर गैस चूल्हा है, लेकिन भरने के लिए पैसे नहीं है । बारिश के दिनों में गीली लकडिय़ों से किसी तरह बच्चों को भूंख की आग बूझाने की कोशिश कर रही है । नंदनी, करन व प्रशांत क्रमशः बारह, दस व पांच वर्ष भूखे रोये जा रहे हैं । कमाने वाला उन्नीस वर्षीय मोहित योगी पिता के सूदखोर के भय से आत्महत्या कर अपनी जीवन लीला समाप्त कर दिया । मां के नाम स्कूटी सूदखोर के कब्जे में कैद है । प्राईवेट बैंक एसवीसीएल का पैतीस हजार रुपये कर्ज भूंखी गाय अनीता योगी को खाए जा रही है ।
------------------
  " हमारा बेटा मोहित स्कूटी लिया था । इससे जाकर कम्पनी में मजदूरी कर कर्ज खत्म करुंगा, सूदखोर स्कूटी छीन ले गया । इससे हताश होकर आत्महत्या कर ली ।
     अनीता योगी, मृतक की मां-
----------------
  " उक्त संबंध में मेरे पास किसी तरह की जानकारी नहीं है । अनिता के नाम स्कूटी सूदखोर के कब्जे में है । इसकी जांच करवा पीडित परिवार को कानूनी प्रक्रिया के तहत न्याय दिलाया जाएगा ।
  समरेश कुमार सिंह, कोतवाली प्रभारी दनकौर
Share To:

Post A Comment: