यूनिवर्सिटी प्रशासन ने यूनिवर्सिटी में विगत आठ 10 वर्षों से लगातार कार्य कर रहे सफाई कर्मचारियों को जो यूनिवर्सिटी कैंपस के अंदर विभिन्न हॉस्टल में काम कर रहे हैं इनकी संख्या 100 से अधिक है मैं दिनांक 7 जून को अचानक ब्रेक दे दिया है इसकी कोई पूर्व सूचना ना कि यूनिवर्सिटी प्रशासन ने दी और ना ही यूनिवर्सिटी प्रशासन द्वारा नियुक्त संविदा कर्मचारियों को दी इस पर अचानक दिया गया है अवैधानिक है यूनिवर्सिटी प्रशासन के इस प्रकार की अनुच्छेद अवैधनिक कार्रवाई से कर्मचारियों में भारी असंतोष है यूनिवर्सिटी प्रशासन में वैधानिक कार्यवाही के खिलाफ विरोध स्वरूप कर्मचारियों ने यूनिवर्सिटी के गेट नंबर 2 पर सोमवार से अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर दिया है कर्मचारियों की मांग है कि यूनिवर्सिटी प्रशासन तत्काल  सभी कर्मचारियों को काम पर वापस लेकर पूर्व की भांति कार्य प्रदान करें अन्यथा कर्मचारी के गेट नंबर 2 पर अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे रहेंगे। 
Share To:

Post A Comment: