बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान को साक्षात किया पिंकी ने, शादी के 7 साल बाद मायके में रहकर पास की इंटरमीडिएट परीक्षा। 
बिलासपुर। कहते हैं कि अगर आदमी अपने मन में ठान ले तो कुछ भी कर सकता है सिर्फ लगन की जरूरत है ऐसी इस बात को साबित किया दनकौर ब्लॉक के बांजरपुर गांव की बेटी पिंकी ने।  पिंकी मूल रूप से बांजरपुर गांव के इंद्र भाटी की पुत्री है जिसकी शादी 7 साल पहले हुई थी लेकिन किसी विवाद के कारण वह अपने घर बांजरपुर में ही है जब उसकी शादी हुई थी उस समय उसने ज्यादा शिक्षा ग्रहण नहीं की थी बाद में उसे शिक्षा के प्रति जागरूकता पैदा हुई और उसने बांजरपुर के जे डी कॉन्वेंट स्कूल में इस बार 75% अंक प्राप्त करके इस बात को साबित किया कि लगन बहुत बड़ी चीज है इस बारे में हमने पिंकी से बात की तो उसने बताया कि वह 3 बहन एक भाई हैं भाई दिल्ली पुलिस में तैनात है उसने बताया कि उसके पिता रिटायर्ड फौजी हैं और उसकी माता गृहणी है उसने बताया कि जिस स्कूल से उसने इंटरमीडिएट पास की है उसी स्कूल में उसके दो बच्चे भी पढ़ते हैं अपनी इस सफलता का श्रेय वह स्कूल के प्रबंधक प्रमोद भाटी वह अपनी माता राजेश देवी व पिता इंद्र भाटी को देती हैं उनका कहना है कि जब तक लड़की पढ़ाई लिखाई करके आत्मनिर्भर ना बने तब तक मां बाप को शादी नहीं करनी चाहिए उन्होंने कहा कि वह पढ़ाई जारी रखेंगे और अपने पैरों पर खड़ी होकर सफलता हासिल करने की पूरी कोशिश करेंगी।
Share To:

Post A Comment: