फेस 3 पुलिस और स्टार-2 टीम को बड़ी सफलता, 10 लाख फिरौती  मांगने वाले 4 बदमाशों
को किया गिरफ्तार। 

विशेष योगदान करने वाले उ0नि0 धर्मेन्द्र कुमार शर्मा व स्टार-1 टीम को 5000 रू0 नगद/प्रशस्ति पत्र एवं क्षेत्राधिकारी नगर द्वितीय पीयूष कुमार सिंह को प्रभावी पर्यवेक्षण हेतु प्रशस्ति पत्र देकर पुरस्कृत किया गया


गौतम बुद्ध नगर। 
(
शफ़ी मोहम्मद सैफ़ी)दिनाॅक 18/19-4-19 की रात्रि में मैट्रो इन्फोसुलेशन प्रा0लि0 डी-242 सैक्टर-63 के मैनेजर  पारितोष का अज्ञात बदमाशों द्वारा अपहरण किया गया था, जिनको छोडने के लिए बदमाशों के द्वारा फिरौती के रूप में 10 लाख रू0 की माॅग की गयी थी। उक्त घटना के सम्बन्ध  आकाश श्रीवास्तव के द्वारा थाना फेस-3 पर मु0अ0सं0 460/19 धारा 364ए भादवि0 पंजीकृत कराया गया था। उपरोक्त घटना के अनावरण हेतु वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, के द्वारा  पुलिस अधीक्षक, नगर एवं  क्षेत्राधिकारी नगर द्वितीय के नेतृत्व में थाना फेस-3 के अतिरिक्त स्टार-1 एवं स्टार-2 टीम को सक्रिय किया गया। दिनाॅक 25-4-19 को स्टार-1, स्टार-2 पुलिस की संयुक्त कार्यवाही में 4 अभियुक्तों को घटना में प्रयुक्त 2 कारों सहित पर्थला चैराहे से गिरफ्तार करने में उल्लेखनीय सफलता प्राप्त की गयी।

*गिरफ्तार अभियुक्तों के नाम व पतेः-*
1-अरूण यादव पुत्र देवेन्द्र यादव निवासी रघुनाथपुर थाना मसूरी जनपद गाजियाबाद, हाल पता जे-44 गोविन्दपुरम थाना कविनगर गाजियाबाद। उम्र 30 वर्ष, शिक्षा एमबीए
2-सूर्या सिंह पुत्र  सुरेन्द्र सिंह निवासी मकान नं0-3 रामप्रसाद प्रधान वाली गली इन्द्रगढी थाना मसूरी गाजियाबाद। उम्र-22 वर्ष शिक्षा-बी0ए0
3-सुनील तंवर पुत्र जयवीर तंवर निवासी खैला थाना चाॅदीनगर बागपत। शिक्षा-12वीं, उम्र-22 वर्ष
4-विपिन भाटी पुत्र लख्मी भाटी निवासी गढी शहदरा थाना सूरजपुर गौतमबुद्धनगर। उम्र-29 वर्ष

*बरामदगी*
1-ब्रेजा कार यूपी 14 डीवी 5050, 
2-स्कोडा कार डीएल 8 सीएनए 4800

*फरार अभियुक्तों के नाम व पताः-*
1-अंकित गुर्जर पुत्र विक्रम निवासी खैला थाना चाॅदीनगर बागपत।
2-अंकित सिंह पुत्र इन्दुप्रकाश सिंह निवासी एस-2/326 आई-3 राजर्वीनगर भोजुवीर बनारस हाल पता 401 टावर 22 पारस टेयरा सै0-144 थाना सूरजपुर गौतमबुद्धनगर।
3-विक्की पहलवान निवासी सैंथली थाना मुरादनगर गाजियाबाद।
4-टीटू निवासी आयानगर दिल्ली।
5-जितेन्द्र तंवर निवासी विनोदनगर दिल्ली।
6-5-6 अज्ञात

*

घटना का विवरणः

घटना का मुख्य सूत्रधार अरूण यादव है जिसने सूर्या व अंकित के साथ मिलकर उक्त घटना की योजना बनाई। अरूण विगत में डी-242 सै0-63 के एस-19 में टैंक एलाॅयस साॅल्यूशन नाम के काॅल सैन्टर का संचालन करता था। डी-242 के गा्रउण्ड फ्लोर पर साहिल वर्मा के द्वारा भी एक काॅल सैन्टर का संचालन किया जा रहा था। आकाश श्रीवास्तव, साहिल वर्मा के काॅल सैन्टर में कार्य करता था। वर्ष 2018 में सायबर सैल द्वारा साहिल वर्मा के काॅल सैन्टर पर रैड की गयी और साहिल वर्मा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था एवं काॅल सैन्टर बन्द हो गया था। उसी के चलते अरूण ने भी अपना काॅल सैन्टर बन्द कर दिया था एवं आकाश डी-242 सै0-63 में श्री वैभव सिंघल की कम्पनी मैट्रो इन्फोसुलेशन प्रा0लि0 में कार्य करने लगा।
 जनवरी 2019 में अरूण के द्वारा पुनः डी-242 में काॅल सैन्टर शुरू किया गया परन्तु सफल  न होने के कारण फरवरी 2019 में बिना किराये का भुगतान किये फरार हो गया था। उसी दौरान कोलकता स्थित एक काॅल सैन्टर को धोखाधडी के माध्यम से प्राप्त होने वाले  25,000 डाॅलर के ट्राॅसफर हेतु यू.एस.ए के फर्जी खाते को उपलब्ध कराने हेतु अरूण से सम्पर्क किया गया जिसने आकाश के द्वारा दिये गये यू.एस.ए के फर्जी खाते में पैसे ट्राॅसफर कराये। आकाश के द्वारा 25000 डाॅलर अरूण को वापस नही दिये गये। उन्हीं रूपयों को लेकर दोनों में विवाद था।
 उक्त बात अरूण के द्वारा अपने दोस्त सूर्या को बताई तथा आकाश को धमकाकर अपना रूपया वापस लेने की योजना बनाई। सूर्या ने उक्त कार्य के लिए अंकित गुर्जर (सूर्या एवं अंकित की दोस्ती जेल में हुई थी) से बात की और अरूण की मुलाकात कराई। योजना के अनुसार दिनाॅक 18/19-4-19 की रात्रि अरूण, सूर्या, अंकित एवं अन्य सभी लोग सै0-62 में एकत्र हुए। अरूण के द्वारा सभी को आकाश का हुलिया और फोटो दिखाई गई। उसके बाद सभी घटना को अंजाम देने के लिए डी-242 सै0-63 के पास आये। अरूण कम्पनी से पहले ही रूक गया था। डी-242 कम्पनी में जाकर सूर्या व अंकित ने आकाश से बात की और 10 लाख देने को कहा। आकाश के द्वारा सूर्या व अंकित से कहा गया कि इस समय मेरे पास इतना पैसा नही है, दिल्ली से पैसो का इतजाम करा सकता हूॅ।ं 
सूर्या एवं अंकित ने अपने 10-12 अन्य साथियों के साथ मिलकर आकाश के मैनेजर पारितोष का अपहरण कर लिया। उसके बाद पारितोष के फोन से ही कम्पनी के मालिक व आकाश से 10 लाख रू0 की माॅग करने लगे और मालिक (वैभव सिंघल) को रूपया लेकर एम्स दिल्ली के पास बुलाया था, परन्तु बदमाशों ने अपने को पुलिस से घिरा देखकर अपहृत पारितोष को एम्स से आगे छोडकर भाग गये। 
अंकित गुर्जर पेशेवर अपराधी है जिसका अपना गैंग है, जिस पर हत्या, लूट आदि के कई अभियोग जनपद गौतमबुद्धनगर, गाजियाबाद, बागपत एवं दिल्ली में पंजीकृत है।

*घटना का अनावरण करने वाली टीमः-*
1-उ0नि0 धर्मेन्द्र कुमार शर्मा प्रभारी टीम स्टार-1 नोएडा
2- उ0नि0 योगेश मलिक  टीम स्टार-1 नोएडा
3- उ0नि0 विकास शर्मा  टीम स्टार-1 नोएडा
4-कां0 1772 सुबोध कुमार टीम स्टार-1 नोएडा
5- कां0 95 वरूणवीर  टीम स्टार-1 नोएडा
6- कां0 472 अंकुर  टीम स्टार-1 नोएडा
7- कां0 2091 अंकित पंवार टीम स्टार-1 नोएडा
8-उ0नि0 यतेन्द्र सिंह टीम स्टार-2 नोएडा
9-मु0आ0 कृष्ण कुमार टीम स्टार-2 नोएडा
10-कां0 संदीप कुमार टीम स्टार-2 नोएडा
11-कां0 अमित कुमार टीम स्टार-2 नोएडा
12-मु0आ0 540 सुभाष मलिक सर्वेलाॅस सैल सै0-6 नोएडा।

 *पुरस्कारः-*  
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, गौतमबुद्धनगर के द्वारा अनावरण व गिरफ्तारी में विशेष योगदान करने वाले उ0नि0 धर्मेन्द्र कुमार शर्मा व स्टार-1 टीम को 5000 रू0 नगद/प्रशस्ति पत्र एवं क्षेत्राधिकारी नगर द्वितीय पीयूष कुमार सिंह को प्रभावी पर्यवेक्षण हेतु प्रशस्ति पत्र देकर पुरस्कृत किया गया है। 
Share To:

Post A Comment: