होम एक्सपो इंडिया 2019 के थ्री इन वन शो का 8वां संस्करण ग्रेटर नोएडा के इंडिया एक्सपो मार्ट में शुरू

ग्रेटर नोएडा। होम एक्सपो इंडिया 2019 के थ्री इन वन शो का 8वां संस्करण मंगलवार से ग्रेटर नोएडा के इंडिया एक्सपो मार्ट में शुरू हो गया. इसमें ‘हाउसवेयर एवं डेकोरेटिव्स’, ‘फर्निशिंग एवं फ्लोरिंग’ और ‘टेक्सटाइल एवं एक्सेसरीज’ उत्पाद शामिल


हैं.  
उद्घाटन समारोह के दौरान ईपीसीएच अध्यक्ष  ओपी प्रह्लादका, ईपीसीएच के उपाध्यक्ष  रवि के पासी, ईपीसीएच के महानिदेशक  राकेश कुमार और प्रशासनिक समिति के सदस्य उपस्थित थे। होम एक्सपो इंडिया 2019 के उद्घाटन के अवसर पर ईपीसीएच के अध्यक्ष  ओपी प्रह्लादका ने कहा कि इंडस्ट्री की मांग को देखते हुए इस शो का आयोजन किया गया है. उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय ट्रेंड के अनुसार सेक्टर विशेष उत्पादों पर शो आयोजित करने से खरीदारों की निश्चित आवश्यकताओं पर विशेष तौर पर ध्यान रखना आसान होता है।  जो अंतरराष्ट्रीय आगंतुक यहां पहुंचते हैं, वो असंख्य उत्पादों, सेवाओं और प्रदर्शनियों में बिना भटके अपने जरूरत के विशिष्ट उत्पादों की तलाश कर सकते हैं और इसकी बहुत सराहना की जाती है। होम डेकोर, फर्निशिंग, फर्नीचर, फ्लोरिंग और टेक्सटाइल्स जिनमें सर्वाधिक संभावनाएं और विकास की क्षमता है, होम एक्सपो इंडिया में वैसे ही सेक्टरों को शामिल किया जाता है. ग्रेटर नोएडा स्थित इंडिया एक्सपो मार्ट के स्थायी मार्ट में 16 से 18 अप्रैल, 2019 तक करीब 500 कंपनियां इन्हीं वर्गों में अपने उत्पादों का प्रदर्शन करेंगी। होम एक्सपो इंडिया चुनिंदा प्रदर्शकों, प्रीमियम उत्पादों और विचारपूर्वक आमंत्रित खरीदारों पर अपना ध्यान केंद्रित कर रहा है। ईपीसीएच के महानिदेशक  राकेश कुमार ने कहा, "स्पष्ट रूप से किसी को भी यह संदेश जाएगा कि होम एक्सपो इंडिया की यह प्रक्रिया बहुत व्यवस्थित, वैज्ञानिक और चयनात्मक है." साथ ही उन्होंने उम्मीद जताई कि यह दृष्टिकोण बहुत अच्छा परिणाम देगा।  कुमार ने बताया कि 50 से अधिक देशों के खरीदार इस मेले में भाग ले रहे हैं, जिसमें अमरीका और यूरोप के पारंपरिक बाजारों समेत अर्जेंटीना, ब्राजील, चिली, कोलंबिया, यूएई, लेबनान, ईरान, नाइजीरिया, घाना, दक्षिण अफ्रीका, वियतनाम, रूस और कई अन्य देशों के खरीदारों ने भी शामिल होने की पुष्टि की है। कुमार ने बताया कि बीते वर्ष फर्नीचर एवं एक्सेसरीज के निर्यात में 27.13%, हाउसवेयर एवं डेकोरेटिव्स में 15.19% और फ्लोरिंग एवं होम टेक्सटाइल में 6.3% की वृद्धि दर्ज की गई है। होम एक्सपो इंडिया के दौरान पूर्वोत्तर क्षेत्र के थीम पर आधारित प्रदर्शन का आयोजन किया जाएगा. साथ ही, इस तीन दिवसीय शो के दौरान अन्य कारीगर भी आगंतुकों को आकर्षित करेंगे। ईपीसीएच के महानिदेशक राकेश कुमार ने बताया कि बीते वर्ष की तुलना में 2018-19 के दौरान हस्तशिल्पों का निर्यात 26,590.25 करोड़ रुपये का हुआ, इसमें 15.46% की वृद्धि दर्ज की गई। ईपीसीएच भारत से हस्तशिल्पों के निर्यात की एक नोडल एजेंसी है जो निर्यातकों, खरीदारों और सरकार के बीच उत्प्रेरक के रूप में एक अहम किरदार अदा करती है जिसका मुख्य उद्देश्य देश से हस्तशिल्प के निर्यात में इजाफा करना और अंतरराष्ट्रीय बाजार में एक विश्वसनीय आपूर्तिकर्ता के रूप में भारत की छवि को प्रोजेक्ट करना है.
Share To:

Post A Comment: