नईदिल्ली। विभिन्न मुद्दों पर सपा, कांग्रेस और अन्य दलों के सदस्यों के हंगामे के कारण सोमवार को राज्यसभा की बैठक शुरू होने के करीब 15 मिनट बाद ही दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित।
समाजवादी पार्टी के नेता रामगोपाल वर्मा ने कहा, 'सपा और बसपा के मिलने मात्र से यह सरकार कांप गई है
जबकि खनन मामले में दायर चार्जशीट में अधिकारी का नाम है अखिलेश का नाम नहीं है। केंद्र सरकार के इशारे पर चुनाव से पहले सीबीआई का दुरुपयोग करने की मंशा है। प्रधानमंत्री को कहीं और से लोकसभा चुनाव लड़ना पड़ेगा। भाजपा ने तोते से गंठबंधन किया है।' हंगामा इसलिए है क्योंकि अखिलेश यादव के पास खनन मंत्रालय भी थे। हंगामे के कारण राज्यसभा 2 बजे तक के लिए स्थगित हो गई है।
राज्यसभा में समाजवादी पार्टी के सांसद रामगोपाल यादव की अगुवाई में समाजवादी पार्टी के अन्य सांसदों ने खनन मामले में अखिलेश का नाम आने पर सदन में काफी हंगामा किया। सपा का आरोप है कि मोदी सरकार 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले दबाव की राजनीति के चलते सीबीआई का दुरुपयोग कर रही है।
विभिन्न दलों के सांसदों ने वेल में आकर हंगामा किया जिसके बाद स्पीकर ने लोकसभा की कार्यवाही 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी।
Share To:

Post A Comment: