गौतमबुद्धनगर।
(शफ़ी मोहम्मद सैफ़ी) ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण के अंतर्गत आने वाली समस्याओं को लेकर करप्शन फ्री इंडिया संगठन पिछले 1 वर्ष से ज्ञापनओं एवं शिकायत के माध्यम से समस्याओं के समाधान के लिए प्रयास कर रहे हैं लेकिन प्राधिकरण के अधिकारियों की उदासीनता के कारण गंभीर समस्याओं एवं भ्रष्टाचार, अनियमितताएं पर कोई भी कार्य नहीं किया गया है समस्याओं के क्रम में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के अंतर्गत आने वाले गांव में आवारा पशुओं से परेशान किसानों की समस्या को लेकर संगठन ने 22 नवंबर 2018 को पहला पत्र एवं 5 दिसंबर 2018 को प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपा था वहीं ग्रेटर नोएडा के प्रमुख रिहायशी सेक्टरों में हो रहे व्यवसायीकरण की समस्या को लेकर 29 अक्टूबर 2018 को एवं दूसरा पत्र 7 दिसंबर 2018 को सौंपा ,ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के द्वारा ईकोटेक 6 में लगभग 6 माह पूर्व वनी सर्विस रोड में हुए भ्रष्टाचार की भी शिकायत 5 अक्टूबर 2018 को की गई, ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के अंतर्गत झालाडा एवं जुनेदपुर गांव के मुख्य मार्गों के निर्माण के संबंध में 17 जुलाई 2018 को पत्र सौंपा था, ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के द्वारा सेक्टर ओमनीक्रोन थर्ड में 102 मीटर के फ्लैट बनाए गए थे जिन को बनाने में घटिया सामग्री का प्रयोग किया गया इसकी गुणवत्ता बिल्कुल भी सही नहीं है सोसायटी के अंदर फ्लैटों में जगह-जगह से प्लास्टर छूट चुका है मैन हाल के ढक्कन टूटे हुए हैं बिजली की फिटिंग जगह-जगह से उखड़ी हुई है रेन हार्वेस्टिंग के गड्ढों से पानी बह रहा है ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के जो मानक थे फ्लैटों का निर्माण उनके आधार पर ठेकेदारों ने नहीं किया इस बिल्डिंग के निर्माण के संबंध में संगठन के लेटर पैड पर पहली शिकायत 26 अप्रैल 2018 को दूसरी शिकायत दिनांक 25 जुलाई 2018 को तीसरी शिकायत 8 अक्टूबर 2018 को चौथी शिकायत 15 अक्टूबर 2018 को की गई पांचवी शिकायत 7 दिसंबर 2018 को की गई जिस शिकायत पत्र में बिल्डिंग के निर्माण में घटिया सामग्री एवं मकानों के अंदर लगे दरवाजे पानी की टंकी या टाइल्स आदि कार्य मानकों के आधार पर नहीं किया गया इस संबंध में अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है इस बिल्डिंग में हुए भ्रष्टाचार को लेकर अनेकों बार प्राधिकरण के वरिष्ठ अधिकारियों से मिल चुका हूं कार्यवाही की मांग कर चुका हूं लेकिन अधिकारियों का जवाब टालमटोल ही रहता है इस 

सिलसिले में करप्शन फ्री इंडिया के प्रवीण भारतीय ने ज्ञापन देकर मांग की है कि तत्काल कार्यवाही करने की कृपा करें अन्यथा प्रार्थी 16 जनवरी 2018 को ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के कार्यालय के बाहर भूख हड़ताल पर बैठेगा जिसकी जिम्मेदारी शासन एवं प्रशासन की होगी। 
Share To:

Post A Comment: